अक्सर बीमारी और तंत्रिका तंत्र

संतुलित तंत्रिका तंत्र संक्रमण और रोग से लड़ने में अधिक सक्षम होता है।

CO-CEO, NEUROFIT
1 मिनट का पठन
OCT 4, 2023
अक्सर बीमारी और प्रतिरक्षा प्रणाली
तंत्रिका तंत्र शरीर का मुख्य नियामक होता है। यह शरीर के सभी प्रणालियों को नियंत्रित करता है और उनकी गतिविधियों का समन्वय करता है। जब तंत्रिका तंत्र सही ढंग से कार्य नहीं करता है, तो शरीर सही ढंग से कार्य नहीं कर सकता। इसलिए अक्सर बीमारियाँ एक असंगठित तंत्रिका तंत्र से उत्पन्न होती हैं।
प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर की संक्रमण और रोग के खिलाफ रक्षा होती है। यह कोशिकाओं, ऊतकों, और अंगों का समूह होता है जो मिलकर शरीर की सुरक्षा करते हैं। तंत्रिका तंत्र प्रतिरक्षा प्रणाली को नियंत्रित करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
चिरकालीन तनाव और प्रतिरक्षा प्रणाली का दबाव
जब हमारा तंत्रिका तंत्र चिरकालीन तनाव के संचय से असंगठित हो जाता है, तो यह अक्सर लड़ाई-या-भाग जाएँ (सहायक) और बंद हो जाएँ (डॉर्सल वेगल) की स्थितियों के बीच दोलता रहता है। इन स्थितियों में, प्रतिरक्षा प्रणाली दब जाती है और हम संक्रमण और रोग के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाते हैं। इसके परिणामस्वरूप ऑटोइम्यून रोग, एलर्जी, और चिरकालीन संक्रमण जैसी विभिन्न समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।
तंत्रिका तंत्र को ठीक करें, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करें
अच्छी खबर यह है कि तंत्रिका तंत्र को हम अपने आप का बेहतर ध्यान रखकर, स्वस्थ दैनिक आदतें शुरू करके, और चिरकालीन तनावकारकों को हटाकर ठीक कर सकते हैं। जब तंत्रिका तंत्र सही ढंग से कार्य करता है, तो शरीर संक्रमण और रोग से लड़ने में सक्षम होता है। इससे कम बीमारियाँ होती हैं और स्वास्थ्य की बेहतर स्थिति होती है।
क्या आप अपने तंत्रिका तंत्र को नियंत्रित करने के लिए तैयार हैं?
NEUROFIT डाउनलोड करें
इस लेख को साझा करें