सहानुभूतिपूर्ण स्थिति: लड़ाई या भाग जाने की प्रतिक्रिया

सहानुभूतिपूर्ण स्थिति को अक्सर लड़ाई या भाग जाने की प्रतिक्रिया के रूप में संदर्भित किया जाता है।

CO-CEO, NEUROFIT
1 मिनट का पठन
OCT 4, 2023
सहानुभूतिपूर्ण: लड़ाई या भाग जाने
जब हमें खतरा महसूस होता है, तो हमारा सहानुभूतिपूर्ण तंत्रिका तंत्र स्वचालित रूप से काम में आता है हमें अपने आप को बचाने में। इसे अक्सर लड़ाई या भाग जाने की प्रतिक्रिया के रूप में संदर्भित किया जाता है।
लड़ाई या भाग जाने की प्रतिक्रिया के दौरान, हमारे शरीर में एड्रेनालिन और अन्य हार्मोनों का एक झोंका छोड़ा जाता है। ये हार्मोन हमारी हृदय गति और रक्तचाप को बढ़ाते हैं, और वे हमें ऊर्जा का एक झोंका भी देते हैं। यह अतिरिक्त ऊर्जा हमें खतरे से लड़ने या उससे सामना करने, या उससे भागने की आवश्यकता होती है।
लड़ाई या भाग जाने एक जीवन बचाने का तंत्र है
लड़ाई या भाग जाने की प्रतिक्रिया एक जीवन बचाने का तंत्र है जो समय के साथ विकसित हुआ है। पहले, यह हमारे पूर्वजों को जंगली जानवरों से हमलों से बचने में मदद करता था। आज, यह हमें कार दुर्घटनाओं, लूटने की कोशिशों, और अन्य खतरनाक स्थितियों से बचने में मदद करता है।
हालांकि लड़ाई या भाग जाने की प्रतिक्रिया एक उपयोगी जीवन बचाने का तंत्र है, यह समस्याग्रस्त भी हो सकती है। अगर हम निरंतर तनाव में रहते हैं, तो हमारा शरीर उच्च सतर्कता की स्थिति में रह सकता है, जो स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। इसलिए, सहानुभूतिपूर्ण प्रतिक्रिया के प्रति प्रतिरोध बनाना महत्वपूर्ण है, ताकि यह केवल वास्तविक खतरों के प्रतिक्रिया में ही सक्रिय हो।
सहानुभूतिपूर्ण स्थिति के प्रति प्रतिरोध बनाना
इस प्रतिरोध का निर्माण सबसे प्रभावी रूप से खेल के माध्यम से किया जाता है, जो वेंट्रल वागल और सहानुभूतिपूर्ण तंत्रिका तंत्रों का एक मिश्रित स्थिति होती है। जब हम खेल में सक्रिय होते हैं, तो हम अपने शरीर को यह सीखाते हैं कि लड़ाई या भाग जाने की प्रतिक्रिया को कैसे नियंत्रित करें, ताकि यह केवल तब ही सक्रिय हो जब हम वास्तव में खतरे में हों।
क्या आप अपने तंत्रिका तंत्र को नियंत्रित करने के लिए तैयार हैं?
NEUROFIT डाउनलोड करें
इस लेख को साझा करें