न्यूरोसेप्शन: पर्यावरणीय जागरूकता

न्यूरोसेप्शन वह है जब तंत्रिका तंत्र स्वतः पर्यावरणीय परिवर्तनों का जवाब देता है।

CO-CEO, NEUROFIT
2 मिनट का पठन
OCT 4, 2023
न्यूरोसेप्शन
न्यूरोसेप्शन तंत्रिका तंत्र का स्वचालित कार्य है जो पर्यावरण में परिवर्तनों का पता लगाने और उनका सामना करने के लिए होता है। यह एक अवचेतन प्रक्रिया है जो हमारी चेतना के बाहर होती है।
तंत्रिका तंत्र निरंतर रूप से पर्यावरण में परिवर्तनों की निगरानी करता है जो संभावित रूप से हानिकारक हो सकते हैं। इस प्रक्रिया को खतरे का पता लगाना कहा जाता है। जब तंत्रिका तंत्र एक संभावित खतरा पता लगाता है, तो यह हमें खतरे से बचने या उससे भागने में मदद करने के लिए कुछ प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर करता है।
खतरा पता लगाना
खतरे का पता लगाने का पहला कदम संवेदनशील इनपुट के रूप में जाना जाता है। यह तब होता है जब शरीर के इंद्रियाँ (दृष्टि, ध्वनि, गंध, स्पर्श, और स्वाद) पर्यावरण के बारे में जानकारी इकट्ठा करती हैं। यह जानकारी फिर मस्तिष्क को भेजी जाती है जहां इसे संसाधित किया जाता है।
अगर मस्तिष्क निर्धारित करता है कि वहां एक संभावित खतरा है, तो यह लड़ने या भागने की प्रतिक्रिया को सक्रिय करेगा। यह एक जीवन बचाने का तंत्र है जो शरीर को या तो खतरे से लड़ने के लिए तैयार करता है या उससे भागने के लिए।
द एमिगडाला
लड़ने या भागने की प्रतिक्रिया को एमिगडाला द्वारा नियंत्रित किया जाता है। यह एक छोटा, बादाम के आकार का संरचना है जो मस्तिष्क में स्थित है। एमिगडाला डर और चिंता जैसी मजबूत भावनाओं को संसाधित करने के लिए जिम्मेदार होता है।
जब एमिगडाला सक्रिय होता है, तो यह शरीर में एक सीरीज़ के परिवर्तनों को ट्रिगर करता है। इन परिवर्तनों में हृदय की दर, रक्तचाप, और श्वसन में वृद्धि शामिल है। शरीर अधिवेग और कॉर्टिसोल जैसे तनाव हार्मोन भी छोड़ता है। ये हार्मोन शरीर को क्रिया के लिए तैयार करते हैं।
लड़ने या भागने की प्रतिक्रिया
लड़ने या भागने की प्रतिक्रिया एक जीवन बचाने का तंत्र है जो समय के साथ विकसित हुआ है। यह हमें खतरनाक स्थितियों से बचने या उनसे भागने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। हालांकि, यह गैर-खतरनाक स्थितियों के प्रतिक्रिया में भी ट्रिगर हो सकता है, जैसे कि जब हम एक तेज आवाज से चौंक जाते हैं।
कुछ मामलों में, लड़ने या भागने की प्रतिक्रिया चिंता और घबराहट का कारण बन सकती है। यह तब होता है जब शरीर एक खतरा महसूस करता है जो वास्तव में मौजूद नहीं है। यह तब भी हो सकता है जब प्रतिक्रिया वास्तविक खतरे के अनुपात से अधिक हो।
चिंता और घबराहट स्वयं में हानिकारक नहीं होती हैं। हालांकि, वे हमारे जीवन को बाधित कर सकते हैं। इसलिए तंत्रिका तंत्र का नियंत्रण इतना महत्वपूर्ण है: यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि लड़ने या भागने की प्रतिक्रिया केवल तब सक्रिय होती है जब वहां वास्तविक खतरा हो।
क्या आप अपने तंत्रिका तंत्र को नियंत्रित करने के लिए तैयार हैं?
NEUROFIT डाउनलोड करें
इस लेख को साझा करें