पॉलीवेगल सिद्धांत और तंत्रिका तंत्र

पॉलीवेगल सिद्धांत कहता है कि तंत्रिका तंत्र तीन विशिष्ट न्यूरल सर्किट से मिलकर बना होता है।

CO-CEO, NEUROFIT
2 मिनट का पठन
OCT 4, 2023
पॉलीवेगल सिद्धांत
पॉलीवेगल सिद्धांत एक स्वतः संचालित तंत्रिका तंत्र (ANS) का सिद्धांत है जिसे 1990 के शुरुआती दशक में स्टीफन पोर्गेस ने प्रस्तावित किया था। यह सिद्धांत कहता है कि ANS तीन विशिष्ट न्यूरल सर्किट से मिलकर बना होता है: वेंट्रल वेगल सर्किट, सहानुभूतिपूर्ण तंत्रिका तंत्र (SNS), और डॉर्सल वेगल सर्किट। इन सर्किटों में से प्रत्येक का शरीर के स्ट्रेस और खतरे के प्रतिक्रिया के विभिन्न पहलुओं के लिए जिम्मेदारी होती है।
वेंट्रल वेगल: विश्राम और पाचन
वेंट्रल वेगल सर्किट शरीर की "विश्राम और पाचन" प्रतिक्रिया के लिए जिम्मेदार होता है। यह सर्किट तब सक्रिय होता है जब शरीर सुरक्षित और आराम कर रहा होता है। जब वेंट्रल वेगल सर्किट सक्रिय होता है, तो हृदय की धड़कन धीमी हो जाती है, रक्तचाप कम हो जाता है, और पाचन तंत्र सही ढंग से काम करने में सक्षम होता है।
सहानुभूतिपूर्ण: लड़ाई या उड़ान
सहानुभूतिपूर्ण तंत्रिका तंत्र शरीर की "लड़ाई या उड़ान" प्रतिक्रिया के लिए जिम्मेदार होता है। यह सर्किट तब सक्रिय होता है जब शरीर स्ट्रेस या खतरे में होता है। जब सहानुभूतिपूर्ण तंत्रिका तंत्र सक्रिय होता है, तो हृदय की धड़कन बढ़ जाती है, रक्तचाप बढ़ जाता है, और शरीर के मांसपेशियाँ क्रिया के लिए तैयार हो जाती हैं।
डॉर्सल वेगल: फ्रीज और शटडाउन
डॉर्सल वेगल सर्किट शरीर की "फ्रीज" प्रतिक्रिया के लिए जिम्मेदार होता है। यह सर्किट तब सक्रिय होता है जब शरीर स्ट्रेस या खतरे से अधिक परेशान होता है। जब डॉर्सल वेगल सर्किट सक्रिय होता है, तो हृदय की धड़कन और रक्तचाप बहुत अधिक गिर जाते हैं, और शरीर के मांसपेशियाँ अपने आपको सुरक्षित करने के लिए कस जाते हैं।
पॉलीवेगल सिद्धांत एक मार्गदर्शक के रूप में
पॉलीवेगल सिद्धांत का हमारे स्ट्रेस, चिंता, और आतंक की समझ के लिए महत्वपूर्ण प्रभाव होता है। यह सिद्धांत सुझाव देता है कि ANS का निर्माण करने वाले विभिन्न न्यूरल सर्किट निरंतर एक दूसरे के साथ बातचीत कर रहे होते हैं, और इन सर्किटों के बीच संतुलन मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण होता है। जब इनमें से कोई एक सर्किट अधिक सक्रिय हो जाता है, तो यह चिंता, स्ट्रेस, और आतंक जैसी समस्याओं का कारण बन सकता है।
वेंट्रल वेगल सर्किट को सक्रिय करने पर केंद्रित समाधान (जैसे कि योग और ध्यान) चिंता और स्ट्रेस जैसी स्थितियों का उपचार करने में सहायक हो सकते हैं। सहानुभूतिपूर्ण तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करने पर केंद्रित चिकित्सा (जैसे कि एक्सपोजर थेरेपी) PTSD जैसी स्थितियों का उपचार करने में सहायक हो सकती है। इस प्रकार, पॉलीवेगल सिद्धांत विभिन्न दृष्टिकोणों का उपयोग करके ANS की समस्याओं का उपचार कैसे किया जा सकता है, इसकी समझ के लिए एक ढांचा प्रदान करता है।
क्या आप अपने तंत्रिका तंत्र को नियंत्रित करने के लिए तैयार हैं?
NEUROFIT डाउनलोड करें
इस लेख को साझा करें